लोकसभा चुनाव में पेम्पलेटों, पोस्टरों आदि के मुद्रण पर नियंत्रण हेतु दिशा-निर्देश जारी 

0
31

झुंझुनूं । जिला मजिस्ट्रेट रवि जैन ने बताया कि लोकसभा चुनाव घोषणा के बाद अब विभिन्न राजनैतिक दलों, अभ्यर्थियों, उनके समर्थकों, कार्यकर्ताओं, व्यक्तियों, संगठनों, संस्थाओं द्वारा पेम्पलेट, पोस्टर, विज्ञापन हैंडबिल आदि मुद्रित करवाये जाएंगे। ऐसे पेम्पलेटों, पोस्टरों आदि के मुद्रण पर नियंत्रण के लिए लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 127-क के प्रावधानों के तहत कार्रवाई की जाएगी।   जिला मजिसट्रेट ने बताया कि कोई भी व्यक्ति किसी ऐसे निर्वाचन पेम्पलेट या पोस्टर को प्रकाशित या मुद्रित नहीं करेगा या करवायेगा, जिसके मुख पर उसके मुद्रक और प्रकाशक का नाम और पता न दिया गया हो। कोई भी व्यक्ति किसी निर्वाचक पेम्पलेट का मुद्रण तब तक नहीं करेगा या करवायेगा, जब तक कि उसके प्रकाशक के पहचान की घोषणा उसके द्वारा हस्ताक्षरित और दो व्यक्तियों द्वारा, जिनको वह व्यक्तिगत रूप से जानता हो, सत्यापित कर दो प्रतियों में उसके द्वारा मुद्रक को नहीं दी जाती और जब कि दस्तावेज के मुद्रण के पश्चात युक्तिसंगत समय के भीतर घोषणा की एक प्रति दस्तावेजों की एक प्रति के साथ मुद्रक द्वारा जहां तक मुद्रित हुआ हो, उसे संबंधित राज्य की राजधानी के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को और किसी अन्य मामले में, उस जिले के  जिला मजिस्टे्रट को, जहां वह मुद्रित किया गया हो, भेज न दिया जाए।   
जिला मजिस्टे्रट ने बताया कि संबंधित यह सुनिश्चित कर लें कि उनके द्वारा मुद्रित निर्वाचन पम्पलेट, पोस्टर या किसी अन्य सामग्री पर मुद्रकीय हाशियों में उसके मुद्रक एवं प्रकाशकों के नाम एवं पते स्पष्ट रूप से अंकित किए गए हों, वहीं चुनाव मुद्रण के कार्य को लेने से पूर्व निर्वाचन आयोग के निर्णयानुसार परिशिष्ट-क में विहित प्रपत्र में प्रकाशक की घोषणा प्राप्त की जाए, जो प्रकाशक द्वारा विधिवत हस्ताक्षरित होगा और ऐसे दो व्यक्तियों द्वारा सत्यापित किया जाएगा, जो प्रकाशक को व्यक्तिगत रूप से जानते हों। जिला मजिस्टे्रट ने बताया कि पिं्रटिंग प्रेस के संचालक उक्त परिशिष्ट-क में घोषणा और मुद्रित सामग्री की 4 प्रतियां उसके मुद्रित किए जाने के 3 दिनों में उनके द्वारा भी प्रमाणित करके और विहित प्रपत्र में मुद्रित दस्तावेजों की प्रतियों की संख्या एवं ऐसे कार्य के लिए कीमत संबंधित सूचना परिशिष्ट-ख में जिला मजिस्टे्रट कार्यालय को भिजवाया जाना सुनिश्चित करें। मुद्रित प्रत्येक पम्पलेट, पोस्टर, हैडबिल, प्लेकार्ड, विज्ञापन आदि की वर्णित सूचना तीन दिवस में अलग-अलग रूप से जिला मजिस्टे्रट को भिजवाई जानी सुनिश्चित की जाए।   जिला मजिस्टे्रट ने बताया कि उक्त निर्देशों का किसी भी प्रकार से उल्लंघन/अतिक्रमण किए जाने पर कड़ी कानूनी कार्यवाही की जाएगी, जिसमें सुसंगत नियमों के अधीन मुद्रणालयों के अनुज्ञापत्र को समाप्त किए जाने की कार्यवाही भी शामिल है।
भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार लोकसभा चुनाव में पेम्पलेटों, पोस्टरों इत्यादि के मुद्रण पर नियंत्रण हेतु जिले में स्थित विभिन्न प्रिंटिंग प्रेस के प्रोपराईटर, प्रबंधकों के साथ अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट राजेन्द्र अग्रवाल की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक आयोजित की गई।          
इस अवसर पर अग्रवाल ने कहा कि सभी प्रिंटिंग प्रेस प्रबंधक चुनाव संबंधी पेम्पलेटों, पोस्टरों इत्यादि के मुद्रण के संबंध में निर्वाचन आयोग द्वारा जारी दिशा-निर्देशों की शत-प्रतिशत पालना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि विभिन्न प्रिंटिंग प्रेसों का औचक निरीक्षण किया जाएगा व किसी प्रकार की अनियमितता पाई जाने पर नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी। इस दौरान शिव प्रिंटर्स, चौधरी प्रिंटिंग प्रेस सहित अन्य पिं्रटिंग प्रेस संचालक उपस्थित थे।