शहर की तर्ज पर अब गांवों में भी गोबर के कंडों से होलिका दहन करने की होड़, 30 हजार कंडे तैयार 

0
12

इन्दौर । शहर में होलिका दहन में केवल गोबर के कंडों का प्रयोग करने की स्पर्धा अब गांवों में भी पहुंच गई है। किष्किंधा धाम द्वारा समीपस्थ ग्राम गिरोता में संचालित खेड़ापति गौशाला में भी करीब 30 हजार कंडे बनाए गए हैं, जिनका निःशुल्क वितरण उन सभी संगठनों को किया जाएगा, जो सिर्फ गोबर के कंडों ही होलिका दहन करेंगे। इनमें शहरी क्षेत्र के साथ ग्रामीण अंचल भी शामिल रहेंगे। 
किष्किंधा धाम रंगवासा रोड के प्रमुख गिरधारीलाल गर्ग ने बताया कि समीपस्थ ग्राम गिरोता स्थित गौशाला के अरविंद नागर, उमंग गर्ग एवं कमल दास ने भी गोपाष्टमी पर संकल्प लिया था कि उनकी गौशाला में भी गाय के गोबर से निर्मित कंडों का निर्माण कर होलिका दहन में प्रयुक्त किया जाएगा। इसी संकल्प को आगे बढ़ाते हुए पिछले छह माह में करीब 30 हजार कंडों का निर्माण किया गया है। इनका वितरण किष्किंधा धाम गौशाला में तैयार किए गए एक लाख से अधिक कंडों के साथ 18 से 20 मार्च तक मल्हारगंज, तेली बाखल स्थित उत्सव रेसीडेंसी पर शाम 4 से 6 बजे के बीच किया जाएगा। भक्त मंडल के राजेंद्र गर्ग, रजत गर्ग एवं महेंद्र पाटीदार ने बताया कि शहर की इच्छुक संस्थाएं 18 से 20 मार्च तक उत्सव रेसीडेंसी पहंुचकर इस निःशुल्क वितरण व्यवस्था में भागीदार बन सकेंगी। प्रत्येक संस्था को होलिका दहन के लिए 25 कंडे देने का निर्णय लिया गया है। इसके साथ ही शहर के विभिन्न क्षेत्रों में भी कंडे वितरण करने की योजना है। 

LEAVE A REPLY