आलोचना के बाद रेलवे ने घटाया देश की सबसे तेज ट्रेन ‘वंदे भारत एक्सप्रेस’ का किराया

0
34

नई दिल्ली: देश की सबसे तेज गति से चलने वाली ट्रेन 'वंदे भारत एक्सप्रेस' का किराया घटा दिया गया है. 15 फरवरी को पीएम मोदी इस ट्रेन का उद्घाटन करने वाले हैं. सोमवार को Train-18 के किराए को लेकर खबर आई थी. इसका किराया शताब्दी के मुकाबले 1.5 गुना ज्यादा था. अब इस ट्रेन का किराया घटा दिया गया है. दिल्ली से वाराणसी के बीच चलने वाली ट्रेन 18 का प्रस्तावित किराया चेयर कार के लिए 1850 से घटाकर 1760 रुपये और एक्जीक्यूटिव कार के लिए 3520 से घटाकर 3310 रुपये किया गया है. यह आदेश भारतीय रेलवे ने दिया है.

इस ट्रेन की तुलना शताब्दी और राजधानी जैसी ट्रेन से की जाती है. शताब्दी की बात करें तो दिल्ली से वाराणसी के बीच का जो किराया है उसका डेढ़ गुना चेयर कार का किराया है, जबकि फर्स्ट एसी का 1.4 गुना एग्जीक्यूटिव क्लास का किराया है. दोनों क्लास में खाने का भी अलग-अलग रेट है.
दिल्ली से वाराणसी जाने के दौरान एग्जीक्यूटिव क्लास में सुबह की चाय, ब्रेकफास्ट और लंच की कीमत 399 रुपये है, जबकि चेयर कार में यह 344 रुपये है. ठीक उसी तरह वाराणसी से दिल्ली आने के दौरान एग्जीक्यूटिव क्लास के खाने का रेट 349 रुपये और चेयर कार में खाने का रेट 288 रुपये है. दिल्ली से वाराणसी के बीच ट्रेन के दो स्टॉपेज- कानपुर और प्रयागराज है. ट्रेन 18 से 755 किलोमीटर की दूरी 8 घंटे में तय होगी.
आधुनिक सुविधाओं से लैस और बिना इंजन के दौड़ने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस को बुलेट ट्रेन के मॉडल पर तैयार किया गया है. ट्रेन को ट्रायल के दौरान 180 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार पर दौड़ाया गया है. नई ट्रेन शताब्दी की जगह लेगी, अभी शताब्दी की रफ्तार 130 किमी प्रति घंटे तक है. ऐसे में नई एक्सप्रेस ट्रेन के सफर से लोगों के समय में 15 से 20 प्रतिशत तक की बचत होगी.
वंदे भारत एक्सप्रेस की खास बात यह है कि इसमें आपको दूसरी ट्रेनों की तरह इंजन दिखाई नहीं देगा. जिस पहले कोच में ड्राइविंग सिस्टम लगया गया है, उसमें 44 सीटें दी गई हैं. वहीं ट्रेन के बीच में लगे दो एग्जीक्यूटिव कोच में 52 सीटें होंगी. इसके अलावा अन्य कोच में 78 यात्रियों के बैठने की व्यवस्था की गई है.

ट्रेन के कोच में स्पेन से मंगाई गई विशेष सीट लगाई गई हैं, इन्हें जरूरत पड़ने पर 360 डिग्री तक घुमाया जा सकता है. अभी इसे दिल्ली से वाराणसी के रूट पर चलाया जाएगा. आने वाले समय में उम्मीद है कि इसे देश के प्रमुख रेल मार्गों पर चलाया जाएगा. कोच में दिव्यांगों के लिए विशेष रूप से दो बाथरूम और बेबी केयर के लिए विशेष स्थान दिया गया है.
ट्रेन में जंजीर अब पुरानी बात हो जाएगी. वंदे भारत एक्सप्रेस में दो इमरजेंसी स्विच लगाए गए हैं. आपात स्थिति में इसे दबाकर मदद ली जा सकती है. ट्रेन में यात्रियों के अनुभव को बेहतर बनाने के लिए हर छोटी-बड़ी सुविधाओं का ध्यान रखा गया है.