दिल्ली-NCR में सिर्फ ग्रीन पटाखे, दक्षिण भारत में सुबह-शाम एक-एक घंटे होगी आतिशबाजी: सुप्रीम कोर्ट

0
63

सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को साफ किया कि इस त्योहारी मौसम में दिल्ली-एनसीआर में केवल ग्रीन पटाखों की बिक्री होगी. जस्टिस एके सीकरी और जस्टिस अशोक भूषण की पीठ ने कहा कि जिन पटाखों का निर्माण पहले से हो चुका है, उन्हें इस त्योहारी मौसम में देश के अन्य अन्य में बेचा जा सकता है.

पीठ ने कहा कि तमिलनाडु, पुडुचेरी और अन्य दक्षिण भारतीय राज्यों में त्योहार पर सुबह चार से पांच बजे के बीच और रात को नौ से दस बजे के बीच एक-एक घंटे के लिए पटाखे फोड़े जा सकेंगे. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने पिछले दिनों फैसला दिया था कि दीवाली पर पूरे देश में सिर्फ दो घंटे रात 8 से 10 बजे तक ही पटाखे फोड़े जा सकेंगे. कोर्ट ने नए साल और क्रिसमस पर भी पटाखे फोड़ने के लिए एक-एक घंटे का वक्त तय किया था.

पटाखों पर बैन नहीं, ऑनलाइन बिक्री पर रोक: सुप्रीम कोर्ट

दीवाली पर दो घंटे की टाइम लिमिट के फैसले पर पुनर्विचार के लिए तमिलनाडु सरकार ने कोर्ट में याचिका लगाई थी कि पटाखे फोड़ने का वक्त बढ़ाया जाए. तमिलनाडु सरकार ने दलील दी थी कि परंपरा के तहत राज्य में दिवाली की सुबह भी पटाखे फोड़े जाते हैं. इस पर कोर्ट ने कहा था कि पटाखा फोड़ने के लिए दो घंटे की समयसीमा पूरे देश में लागू होगी. हालांकि कोर्ट ने कहा था कि तमिलनाडु और पुडुचेरी की सरकारें स्थानीय मान्यताओं के मुताबिक दो घंटे का अपना टाइम स्लॉट चुन सकती हैं.

वहीं ई-कॉमर्स वेबसाइट्स के जरिए पटाखों की बिक्री पर बैन के अपने फैसले को सुप्रीम कोर्ट ने बरकरार रखा है. कोर्ट ने कहा कि पटाखों की बिक्री लाइसेंसी विक्रेता ही कर सकेंगे और देश में कहीं भी पटाखों की ऑनलाइन बिक्री नहीं की जा सकेगी. कोर्ट ने कहा कि ऐसा करने वालों के खिलाफ अवमानना का केस चलेगा.